loading...

बीजिंगभारत के लिए पहले बुलेट ट्रेन बनाने का सौदा जापान के हाथों गंवाने के बाद चीन ने आज कहा कि वह अभी भी उच्च गति वाले रेल क्षेत्र में भारत के साथ सहयोग को आगे बढ़ाने के लिए तैयार है।  Bullet-Train

loading...

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता होंग ली ने संवाददाताओं से यह बात कही। होंग ली से भारत-जापान के बीच 500 किलोमीटर लंबे मुंबई-अहमदाबाद गलियारे में बुलेट ट्रेट के निर्माण के लिए हुए समझौते के बारे में पूछा गया था। यह समझौता जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे की हाल में भारत यात्रा के दौरान हुआ।

जापान ने 12 अरब डॉलर की परियोजना के लिए आसान शर्तों पर 8.1 अरब डॉलर के वित्त पोषण की पेशकश की है। होंग ने कहा कि चीन का भी भारत के साथ हाई-स्पीड रेलवे के क्षेत्र में सहयोग है। हम संबंधित क्षेत्र में सहयोग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय पक्ष के साथ काम करना चाहेंगे।

भारतीय अधिकारियों ने यहां स्पष्ट किया कि जापान के साथ समझौता मुंबई-अहमदाबाद क्षेत्र के लिए है और अन्य गलियारों के लिए चीनी निवेश को लेकर भारत पूरी तरह खुला हुआ है!

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें