loading...

chin

loading...

नई दिल्ली: भारत के दबाव के बाद चीन और पाकिस्तान की मिली भगत सामने आ गई है। चीन खुलकर आतंकी देश के समर्थन में आ गया है।

भारत को चेतावनी देते हुए चीन ने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ कोई भी कार्रवाई बहुत सोच समझ कर करें। अगर पाकिस्तान के खिलाफ भारत बिना सबूतों के हमला करता है तो हम पाकिस्तान के बचाव में सबसे आगे रहेंगे।
क्यों पाक के समर्थन में है चीन
दरअसल पीओके में चीन का करीब 46 अरब रुपये का निवेश है। इसी के चलते अगर भारत पीओके में कोई भी कार्रवाई करता है तो इसका सीधा अगर चीन पर होगा।
पाक को हेलीकॉप्टर नहीं देगा रूस
वहीं दूसरी ओर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को अलग थलग करने की मुहिम रंग लाने लगी है। रूस पाकिस्तान को MI-35 हेलिकॉप्टर नहीं देगा। भारत की तरफ से रूस से ये आग्रह किया गया कि पीओके में होने वाले सैन्य अभ्यास को रोक दे।
रूस ने सैन्य अभ्यास भी रद्द किया
भारत के इस आग्रह पर रूस सहमत हो गया। अब रूस पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह के सैन्य अभ्यास में भाग नहीं लेगा। पीओके में रूस और पाकिस्तान के बीच अगले महीने सैन्य अभ्यास होना था।
पाकिस्तान के खिलाफ इस बार कड़ा रुख
बता दें जम्मू कश्मीर के उरी में पाकिस्तान से आए आतंकियों ने सेना के ब्रिगेड हेडक्वाटर पर हमला किया था। इस हमले में सेना के 18 जवान शहीद हो गए। इस हमले के बाद से भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ कड़ रुख अख्तियार किया है।
आतंकी देश घोषित हो पाक
भारत ने पाकिस्तान को आतंकवादी देश घोषित करने की मांग भी है। इसके साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाक को अलग थलग करने के लिए भी भारत लगातार महिम छेड़ रहा है।
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें