loading...
खूब शराब पीने वाला यह आदिवासी इलाका अब Beer की तरफ अपने कदम मोड़ चुका है।
loading...
खूब शराब पीने वाला यह आदिवासी इलाका अब Beer की तरफ अपने कदम मोड़ चुका है।

Indore : मध्य प्रदेश के आदिवासी इलाके के अलीराजपुर के सोरवा गांव में 35 साल के वेस्तिया ने अपना धनुष उठाया और एक दोस्त को तीर मार दिया। हैरानी की बात यह है कि उसके ऐसा करने का कारण था कि उस दोस्त ने वेस्तिया को अपनी beer पार्टी में नहीं बुलाया था।

बता दें, कि इस गांव में यह पहला केस नहीं है। अधिकारियों ने बताया कि खूब शराब पीने वाला यह आदिवासी इलाका अब बियर की तरफ अपने कदम मोड़ चुका है। आदिवासी लोग बियर के लिए मार-पीट करने के लिए हर समय तैयार रहते हैं।

आबकारी विभाग के आंकड़ों के मुताबिक झबुआ और अलीराजपुर के आदिवासी क्षेत्रों में इंदौर से अधिक बियर की खपत होती है। डेप्युटी कमिश्नर (एक्साइज) विनोद रघुवंशी का कहना है कि पहले ये महुए और ताड़ी से बनी शराब पीते थे लेकिन अब इन्हें बियर कि लत लग गयी है। उन्होंने कहा, ‘आदिवासियों के स्वाद में आए बदलाव के बारे में जानने के लिए एक सामाजिक अध्ययन होना चाहिए।’

अलीराजपुर के एक फटॉग्रफर अनिल तवर ने कहा, ‘अलीराजपुर और झबुआ में अब बियर इसलिए ज्यादा पी रहे हैं क्योंकि उन्हें देसी शराब में मजा कम आ रहा है। वे ज्यादा नशे के लिए व्हिस्की और बियर को मिक्स कर के पीते हैं।’ गांव में रहने वाले राजू भिल्का ने बताया, ‘आदिवासी औरतों का बियर पीने का अंदाज जुदा होता है। वे अपनी हथेली लगाकर बियर पीती हैं। भगोरिया उत्सव के दौरान उन्हें उनकी साथी महिलाओं के साथ बियर पीते देखा जा सकता है।’

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें