loading...

Vasundhara-Raje-i

loading...

अजमेर – राजस्थान में गरीब और जरूरतमंद बच्चों के लिए सरकार ने टॉय बैंक खोलने की योजना बनाई है। अजमेर और नागौर जिले से इस बैंक की शुरुआत भी हो चुकी है। अजमेर का टॉय बैंक इस तरह का राज्य का पहला बैंक है। टॉय बैंक अजमेर के डीएम गौरव गोयल की अनूठी पहल का नतीजा है। इस योजना में जिला प्रशासन खिलौना उपहार में देने वालों से लेकर उन्हें जरूरतमंद बच्चे, आंगनवाड़ी केंद्रों और प्राइमरी स्कूलों में बांट दिया जाएगा।

अजमेर की इस टॉय बैंक का शुभारंभ मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किया। विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसका उद्घाटन करते हुए उन्होंने निर्देश दिए कि अन्य राज्यों में भी इसी तरह के टॉय बैंक खोले जाएं। साथ ही उन्होंने कहा कि इसी तरह से कपड़ों और किताबों के लिए भी बैंक खुलने चाहिए। राजे ने कहा कि इन बैंकों को एजुकेशनल टॉय के डिस्ट्रिब्यूशन पर ध्यान देना चाहिए ताकि छात्र साथ-साथ खेल और पढ़ सकें। उन्होंने स्वयं अजमेर की टॉय बैंक को 101 खिलौने दान किए। इन खिलौनों को जिले के बच्चों में बांट दिया गया। इसके साथ ही वसुंधरा को डोनर का सर्टिफिकेट भी दिया गया।

मुख्यमंत्री ने इस दौरान एक मोबाइल ऐप्लिकेशन भी लॉन्च किया। इससे कोई भी खिलौने डोनेट कर सकता है और उन पर नजर भी रख सकता है कि वे किसे दिए गए हैं। विडियो कॉन्फ्रेंसिंग में अजमेर और नागौर के अधिकारियों को संबोधित करते हुए राजे ने कहा कि जिला प्रशासन, संस्थाओं और आम आदमी की जिम्मेदारी है कि वे इन खिलौनों को उन बच्चों में बांटे जिन्हें ये आसानी से उपलब्ध नहीं हैं।

इस संबंध में जानकारी देते हुए गोयल ने कहा कि इस योजना की शुरुआत इस सोच के साथ हुई है कि जो खिलौने इस्तेमाल नहीं हो रहे हैं, उन्हें जरूरतमंदों को उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने कहा कि अगले एक माह तक खिलौने इकट्ठे करने का काम जारी रहेगा। डोनेट करने की इच्छा रखने वाले राज्य के किसी भी बैंक और सरकरी स्कूलों में डोनेट कर सकते हैं।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...