loading...

dffdgf

loading...
हेल्थ डेस्क: पसीना आना शरीर की स्वाभाविक क्रिया है | यह शरीर को उसके सामान्य तापमान को बनाए रखने में मदद करता है। कई लोग हमारे आस-पास ऐसे होते है जिनके हाथों औप तलवों से अधिक पसीना निकलता है।

अगर आपने ध्यान दिया हो ते आपको बता दे कि कभी-कभी आपको अगर हाथ में कुछ लिए होचे है तो वजह पूरा भीग जाते है। अमूमन यह समस्या कम लोगों में देखने को मिलती है। वैसे माना जाता है कि मर्मियों के समय हमारे शरीर से पसीना निकलना कोई बड़ी समस्या नहीं है, लेकिन सर्दियों के समय हाथ और तलवें से पसीना आना या फिर किसी खास स्थान में पसीना आता है तो आपको हाइपरहाइड्रोसिस नामक बीमारी है। हाइपरहाइड्रोसिस से ग्रस्‍त लोगों में पसीने की ग्रंथि बहुत अधिक सक्रिय होती है।

जानिए क्या है हाइपरहाइड्रोसिस- हाइपरहाइड्रोसिस दो करह के होते है एक प्राइमरी और दूसरा सेकेंड्री। प्राइमरी हाइपरहाइड्रोसिस में कोई कारण नज़र नहीं आता और बेवजह पसीना बहता है। जिससे कोई समम्या नहीं होची है। वहीं सेकेंड्री हाइपरहाइड्रोसिस में पसीना निकलने के बहुत सारे कारण सामने आ सकते हैं। आपको कई गंभीर बीमारी हो सकती है जैसे कि मधुमेह, मेनोपॉज़, लो ग्‍लूकोज़ या हाइपरथायराइडिज्म हो सकता है। इसलिए अगर आपको ऐसी समस्या है तो सचेत हो जाए।

लक्षण- जिस इंसान को यब बीमारी हो जाती है। अगर उसे बिना तनाव या घबराहट के भी पसीना आता है। गर्मी न हो फिर भी उसे महसूस होता है कि उसे पसीना निकल रहा है। इसमें इतना ज्‍यादा पसीना आएगा कि कपड़े तक गीले दिखाई देने लगेंगे। इस बीमारी में सबसे ज्यादा पसीना शरीर के बाजू, चेहरे, हथेलियां, पांव और गुप्‍तांग पर पसीना आएगा।

अगली स्लाइड में पढ़े उपायों के बारें में….. 

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें