loading...

शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने जो भाषण दिया उसमें कई लोगों और मीडिया को फिर से उनका सौम्य और समावेशी चेहरा नजर आया. फिर बीच-बीच में उन्हें क्या हो जाता है? pm-modi-lok-sabha-2_700x431_81448633134

हमने बचपन में डॉक्टर जैकेल और मिस्टर हाइड की कहानी पढ़ी थी. वैज्ञानिक डॉक्टर जैकेल वैज्ञानिक हैं और अत्यंत ही सम्मानित व्यक्ति हैं. लेकिन वे ऐसी दवा बनाते हैं जिसे पीकर वे एक दूसरे व्यक्ति में बदल जाते हैं. वह बदशक्ल तो है ही शैतानी तबीयत का भी है. वह औरतों और बूढ़ों पर हमले करता है, यहां तक कि कई क़त्ल भी कर डालता है. डॉक्टर जैकेल उसका नाम हाइड रखते हैं.

डॉक्टर को इसमें बहुत आनंद मिलता है. मिस्टर हाइड बन जाने से उन्हें एक किस्म की नैतिक स्वच्छंदता मिल जाती है और उन बंधनों से आज़ादी मिल जाती है जो सभ्यता और संस्कृति उनपर लगाए रखती है. हाइड के अवतार में वे वह सब कुछ कर पाते हैं जो जैकेल होते हुए वे सोच भी नहीं सकते थे.

क्या प्रधानमंत्री बीच-बीच में उस रूप में लौट जाते हैं जिसमें उन्हें इत्मीनान मालूम होता है? वह रूप, जो गुजरात के विधानसभा चुनाव में मियां मुशर्रफ को ललकारता है मानो उन्हीं से चुनावी मुकाबला हो?

1 of 5
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

स्रोतअपूर्वानंद
शेयर करें