loading...

Patrika news

एमए-बीए पास बहू-बेटियां खेतों से बरसा रही सोना : स्त्रोत – Patrika news

  • एक ख्वाहिश, एक सपना, एक भूख एक मातृ प्रेम। इन सब का मिला जुला रूप है महिलाएं। महिलाएं आज हर क्षेत्र में अपना परचम लहलहा रही है। ये चूल्हा चौका करने वाले हाथ जब खेती का भविष्य लिखने के लिए उठते है तो सफलता की एक नई इबारत लिख देते है।

झुंझुनूं – एक ख्वाहिश, एक सपना, एक भूख एक मातृ प्रेम। इन सब का मिला जुला रूप है महिलाएं। महिलाएं आज हर क्षेत्र में अपना परचम लहलहा रही है। ये चूल्हा चौका करने वाले हाथ जब खेती का भविष्य लिखने के लिए उठते है तो सफलता की एक नई इबारत लिख देते है। घर गृहस्थी संभालने वाली महिलाएं घर बार का काम निपटा कर खेतों में मेहनत के मोती बो रही है। घर में पुरुष सदस्यों के अपने व्यवसाय तथा बाहर कमाने के चलते उन घरों में महिलाएं ही खेती बाड़ी की बागडोर संभाल रही है तथा खेती बाड़ी से लाखों रुपए की आमदनी कमा रही है। आधुनिक तरीके से कम पानी में खेती करना तथा उन्नत नस्ल के पशुधन से वे आबाद हो रही है।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें- किसने क्या सफलता की हासिल….. 

1 of 9
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

शेयर करें