loading...

internal-weakness

loading...

कपिकच्छू/कौंच/केवांछ (Cowhage) :

कपिकच्छुभृंश वृष्या मधुरा बृंहणी गुरुः।
तिक्ता वातहरी बल्या कफपिस्रानाशिनी।।
तद्विजं वातशमन स्मृतं वाजीकरं परम्।। भा. प्र.।।

कपिकच्छू/कौंच/केवांछ (Cowhage) : सामान्य नाम

कौंच को कपिकच्छू और कैवांच वगैरह नामों से भी जाना जाता है. आयुर्वेद में इसे यौन कूवत बढ़ाने वाली दवा के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. सेक्स कूवत बढ़ाने के लिए इस के बीज बेहद कारगर होते हैं. कौंच का इस्तेमाल मर्दों व औरतों की हमबिस्तरी की ख्वाहिश में इजाफा करता है. यह नपुंसकता दूर करने में मदद करती है।

रासायनिक संगठन : इसमें राल, टेनिन,वसा एवम मैगनीज रहता है।

गुण : गुरु ,स्निग्ध।
रस : मधुर , तिक्त।
वीर्य : उष्ण ।
विपाक : मधुर ।

अगली स्लाइड में और भी हैं …

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें