loading...
मौके पर पहुंची पुलिस और इनसेट में टूटी गणेश की मूर्ति।
loading...
मौके पर पहुंची पुलिस और इनसेट में टूटी गणेश की मूर्ति।

कानपुर :- यहां बौद्ध धर्म मानने वाले एक परिवार ने गणेश पंडाल में घुसकर गणेश भगवान की मूर्ति को तोड़ डाला। यही नहीं, वहां लगे लाउडस्‍पीकर भी फेंक डाले और आयोजकों के साथ गाली-गलौच कर फरार हो गए। आरोपियों का कहना था कि इस देश में केवल बाबा साहेब भीम राव अंबेडकर की पूजा करनी चाहिए, क्‍योंकि उन्‍होंने ही संघर्ष कर देश को आजाद कराया। तथाकथित गणेश और कृष्‍ण ने इस देश को आजादी नहीं दिलाई।

पढ़िए क्‍या है पूरा मामला…
नौबस्ता थानाक्षेत्र के सिमरा गांव में लड़कों ने 200-200 रुपए चंदा लेकर बीते 5 सितंबर को पंडाल लगाकर भगवान गणेश की मूर्ति स्‍थापित कराया था। बताया जाता है कि यहां के निवासी राम सजीवन का परिवार बौद्ध धर्म को मानता है। इसलिए उनका परिवार इस गणेश पूजन का विरोध कर रहा था। उनका कहना था कि यहां पर लाउडस्‍पीकर नहीं बजाना है। जब लाउडस्‍पीकर बंद नहीं हुआ तो वो अपने परिवार के आधा दर्जन लोगों के साथ मौके पर पहुंचे और लाउडस्‍पीकर फेंक कर तोड़फोड़ करने लगे। इसके बाद पंडाल में रखी भगवान गणेश मूर्ति को तोड़ दिया।

आगे पढे- क्‍या कहते हैं मूर्ति स्‍थापित करने वाले लोग

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें