loading...

France-girl-reached

loading...
बड़वाह(इंदौर). फ्रांस की अंतरराष्ट्रीय संस्था काॅटन कनेक्ट की सदस्य चार्ली इंदौर के पास एक गांव में पहुंची। वे कपास फसल का निरीक्षण करने आई थी, लेकिन यहां के किसानों द्वारा जैविक खेती से इम्प्रेस हुई। कपास का जांच छोड़ी और किसानों से जैविक खेती सीखी। चार्ली ने कहा- इस पद्धति को विदेश की धरती पर आजमाएंगे।

गोवर्धन तिवारी व शांतिलाल के खेतों में पहुंची चार्ली ने कपास की फसल देख उसकी तंदुरुस्ती का राज पूछा। किसान ने बताया कीटनाशक की जगह नीम, गोमूत्र, केंचुआ खाद, वर्मी वाश का छिड़काव किया है। चार्ली ने इस तरह का ट्रीटमेंट पहले कहीं नहीं देखा था। जैविक खेती को बारीकी से सीखा। इस दौरान उनके साथ वसुधा जैविक अभियान के एमडी अविनाश कर्मकर, इंदौर के कृषि वैज्ञानिक अजीत केलकर मौजूद थे।  

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें