loading...
bn
loading...
indianarmy.nic.in

वीरता और शौर्य की गाथाएं अक्सर हमारे ज़ेहन में ज़िंदा रहती हैं और अधिकतर हमें वही किस्से-कहानियां सुनाई जाती हैं, जहां हालात तो विपरीत होते ही हैं, साथ में जीवन का अंत निश्चित रूप से तय होता है। इतिहास भी उन्ही शूरवीरों के सम्मान में कसीदे पढ़ना पसंद करता हैं, जिन्होंने अपने साहस और हौसले से इसके पन्नों में जगह बनाई। और बात जब देशभक्ति की हो, तो इन देशभक्तों को युगों-युगों तक याद किया जाता है।

तभी हम पृथ्वीराज चौहान या टीपू सुल्तान की शहादत पर जश्न मानते हैं। शिवाजी और उनके मुट्ठी भर बहादुर साथियों को इसलिए याद किया जाता है, क्योंकि उन्होने अपने अपार साहस के साथ महान सेनाओं के खिलाफ लडाइयां लड़ी थीं।

1 of 7
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें