loading...

khilji

loading...

क्वेटा: पाकिस्तान में एक छोटी क्लिनिक चलाने वाले मेडिकल तकनीशियन सरदार जान मुहम्मद खिलजी अपने धार्मिक कर्तव्य को पूरा करने के लिए चौथी बीवी की तलाश में हैं। 46 साल के खिलजी की पहले से तीन बीवीयां हैं जिनसे उनके 35 बच्चें हैं। जहां खिलजी अपने 100 बच्चों को लक्ष्य पूरा करने के लिए चौथी बीवी की तलाश कर रहे हैं। वहीं मानवाधिकार आयोग ने खिलजी की इस चाहत पर चिंता जाहिर की है। मानवाधिकार संगठन कहना है कि बहुविवाह प्रणाली में बच्चे और औरतें को ही तकलीफें झेलनी पड़ती हैं। गौरतलब है कि पाकिस्तान में इस्लाम के तहत चार बीवियां रखने की इजाजत है हालाकि इसके लिए पहली बीवी और एक धार्मिक परिषद से इजाजत लेनी पड़ती है।

खिलजी एक मेडिकल तकनीशियन हैं। उनका कहना है कि वे शायद ही कभी अपने बच्चों के नाम भूलते हैं। शादी जैसे मौकों पर वे बारी-बारी से बच्चों को उनकी मां के साथ ले जाते हैं। उनकी तीनों बीवियां उनके इस लक्ष्य में सहयोग कर रहीं हैं और मिलजुल कर रहतीं हैं हालाकि उन्होंने उनसे बात करने की इजाजत नहीं दी।

पिता के नाम के लिए जद्दोजहद

महिला अधिकार कार्यकर्ता राफिया जकारिया का कहना है कि हालांकि पाकिस्तान में एक से ज्यादा बीवियां रखने की घटनाएं काफी कम हैं, एक अध्ययन के मुताबिक ऐसे हालातों में अक्सर ये होता है कि बीवियां घोर निराशा की शिकार हो जातीं हैं और बच्चे अक्सर अपने पिता का नाम जानने के लिए जद्दोजहद करते पाए जाते हैं।

आगे पढ़े ? कुरान के मुताबिक बहुविवाह अच्छा नहीं

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें