loading...
हर बार वसंत पंचमी पर तनाव का माहौल बनता है और अगर वसंत पंचमी के दिन जुमा पड़ जाए तो सियासी चालों की रफ्तार और तेज़ हो जाती है. संयोग से इस बार आज 12 फरवरी को वंसत पंचमी के दिन शुक्रवार है. लिहाज़ा मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार के सामने 12 तारीख नई चुनौती बनकर प्रस्तुत हो गई है.hjhjghhhg
loading...
उसे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (एएसआई) के ताज़ा आदेश के मुताबिक भोजशाला में पूजा और नमाज़़ दोनों शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने हैं. एएसआई ने नमाज़़ के लिए दो घंटे का ब्रेक निर्धारित किया है. हिंदूवादी संगठन नमाज़ के विरोध में नहीं हैं पर उनका कहना है कि यज्ञ में ब्रेक नहीं हो सकता. वह तो पूर्णाहूति के बाद ही संपन्न होता है.
दरअसल प्रशासन के लिए चिंता का सबब भी यही नज़रिया है. इसलिए उसने दर्शन के लिए पहुंचने वालों की निकासी का ऐसा इंतजाम कर दिया है कि दर्शनार्थी करीब दो किलोमीटर बाहर निकलेगा और तुरंत प्रवेश द्वार के पास नहीं लौट सकेगा. हिंदू संगठन इसका विरोध कर रहे हैं और उन्होंने बैरीकेड नहीं हटाने पर कल 11 तारीख से सत्याग्रह कर है. कारण, भीड़ नहीं होगी तो प्रशासन पर दबाव नहीं बन पाएगा.
1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें