loading...

A customer

loading...
आधुनिकता के इस दौर में हमारा देसी फ्रिज यानि मिट्टी का घड़ा कहीं न कहीं पीछे छूटता जा रहा है। फोटो- उत्कर्ष सिंह

वो भी एक दौर था जब हमें मिट्टी की सोंधी खुशबु, शीतलता और मीठापन का अहसास कराते हुए सुराही या घड़े का जल अधिकांश घरों में पीने को मिल जाता था। बचपन की यादों में कहीं न कहीं हमारा देशी फ्रिज या मिट्टी का घड़ा जरूर शामिल था। गर्मी शुरू होते ही बाज़ार से घड़े लाना और बालू के उपर घड़े को रखकर उसके शीतल जल का पान करना गर्मी में बड़ी राहत प्रदान किया करता था, लेकिन आज दौर बदल गया है।

आधुनिकता के इस दौर में हमारा देसी फ्रिज यानि मिट्टी का घड़ा कहीं न कहीं पीछे छूटता जा रहा है। आज हमें बहुत मुश्किल से कुछ ऐसे घर मिलेंगे जहां हमें मिट्टी के घड़े का पानी पीने को मिलेगा। अधिकांश लोगों ने आधुनिकता के इस दौर में फ्रिज को वरीयता देते हुए अपने घरों में इसे जगह दी है और मिट्टी के घड़े को कहीं भूल आए हैं।

आगे की स्लाइड में देखे- कितना फायदेमंद है घड़े का पानी

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
के माध्यम सेविनोद कुमार
स्रोतdnaindia.com
शेयर करें