loading...

नई दिल्ली।  अगर आपसे कोई पूछे कि दिल्ली में गारस्टिन बास्टिन रोड कहां है तो शायद ही आप कुछ बता पाएं लेकिन अगर इसी रोड के बारे में यही सवाल इसका संक्षिप्त नाम यानी जीबी रोड लेकर पूछा जाए तो हो सकता है कि आप पूछने वाले को एक हिकारत भरी नजर से देखें या फिर मुंह बिदका लें या ये भी हो सकता है कि ये सवाल सुनकर जवाब देने की बजाय आपके चेहरे पर अजीब सी शरारतपूर्ण मुस्कान नजर आने लगे।

gb
loading...
जी हां, दिल्ली के सबसे बड़े रेडलाइट एरिया जीबी रोड की यही बदकिस्मती है। ऐसी बदकिस्मती जिसने जीबी रोड को दिल्ली-एनसीआर ही नहीं तकरीबन पूरे उत्तर भारत में जिस्मफरोशी के बदनाम अड्डे की पहचान दिलाई है।

जी हां, दिल्ली के सबसे बड़े रेडलाइट एरिया जीबी रोड की यही बदकिस्मती है। ऐसी बदकिस्मती जिसने जीबी रोड को दिल्ली-एनसीआर ही नहीं तकरीबन पूरे उत्तर भारत में जिस्मफरोशी के बदनाम अड्डे की पहचान दिलाई है। इस पहचान के आगे यहां काम कर रही सैकड़ों-हजारों महिलाओं की बेबसी, दर्द, मजबूरी और हालात के सवाल फीके लगते हैं और हमेशा अनसुने रह जाते हैं। खुद इन महिलाओं ने भी इस हकीकत के साथ जीना सीख लिया है, तभी तो जब कोई उनसे पूछता है कि इस धंधे में क्यों आईं, तो उनका जवाब होता है ‘टाइम क्यों खोटी कर रहे हो साहब?’ 

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें