loading...

127

loading...
 #‎GauMataRashtraMata‬ 2016 रविवार पहले तय अनुसार दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में पूज्य गोपाल मणि जी महाराज एंव देश के पूज्य सन्तों के सानिध्ये में। जिसमे देश के सभी राज्यो से 3 लाख गौभक्तो ने हिश्सा लिया।

jantarदिल्ली पहुंचे गौ भक्तो अनुसार:- 1966 में धर्म सम्राट करपात्रीजी महाराज के नेतृत्व में गौहत्या बंदी आंदोलन को 2016 में 50 वर्ष पुरे हो रहे हैं। उस आंदोलन में हजारो गौभक्तो ने प्राणों की आहुति दि थी। उन शहीदों को सच्ची श्रद्धांजलि देने के लिये गौमाता को राष्ट्र माता के पद पर सुशोभित करवाने हेतु महा जन आंदोलन का सफल आयोजन हुआ ।।

1280270सिनेमा जगत की और से “हेमा मालिनी” भी आंदोलन में शामिल हुई… आपकी जानकारी के लिए बता दे की देओल परिवार 1995 से महामना राजीव दीक्षित जी के विचारों से प्रेरित है ! जब राजीव दीक्षित जी ने इनके यहाँ स्वदेशी व्याख्यान किया था!

भारत के ऋिषयों ने पूरे देश और दुनिया को एक परिवार या घर के रूप में देखा है। घर बनता ही माँ से है। इस देश में राष्ट्र गीत भी है राष्ट्र गान भी है राष्ट्र पक्षी भी है राष्ट्र पशु भी है गांधी जैसे दुष्ट राष्ट्रपिता भी है। लेकिन हमारे राष्ट्र रूपी घर में राष्ट्र माता नही है। इसलिए गो माता को राष्ट्र माता बनाओ।

वेदों में लिखा है “गोस्तु मात्रा न विद्यते” गाय की बराबरी कोई नही कर सकता। उस गोमाता के लिए हमे किसी मंदिर बनाने की जरूरत नही है गो माता के घर पहुंचते ही वह घर मंदिर बन जाता है। गो माता को वो सम्मान दो जो हम भगवान को देते हैं ।

आंदोलन में पहुंचे भारतीय गोक्रांति मंच तमिलनाडु चेन्नई का नेतृत्व कर रहे गोवत्स राधेश्याम रावोरिया का कहना है की पूज्य सन्तों एंव गौभक्तो ने
भारत सरकार एंव राज्य सरकार से निम्न पांच मांगे रखी।

11. गौ माता को राष्ट्रमाता के पद पर सुशोभित करे एंव गौ मंत्रालयों का अलग से गठन हो।

22. रासायनिक खादो पर प्रतिबंध लगे, गोबर की खाद का उपयोग हो, गोबर गैस का चूल्हा जलाने एंव गोबर गैस को सी.न.जी गैस में परिवर्तन कर मोटर गाड़ी चलाने में उपयोग हो।

33 . 10 वर्ष तक के बालक-बालिकाओ को सरकार की और से भारतीय गाय का दूध नि:शुल्क उपलब्ध हो, किसानो को गाय अनुदान में दी जाये, प्रत्येक गाँव में भारतीय नंदी (सांड) की व्यवस्था हो।

44. जर्सी आदि विदेशी गायों पर पूर्ण प्रतिबंध उसके दूध की विकृति को सार्वजनिक किया जाये, गोचरान भूमि गौवंश के लिये ही मुक्त हो।
=55. गौ-हत्यारों को मृत्यु दण्ड दिया जायें।

28 फरवरी 2016 शाम 6 बजे तक केंद्र में बैठी तथाकथित हिन्दूवादी मोदी सरकार की और से कोई भी लिखित में मांग नही मानी गई, इसलिए पूज्य गोपाल मणि जी महाराज जी ने गौमाता राष्ट्रमाता के संकल्प की पूर्ति के लिए कल शाम 6 बजे से जंतर-मंतर, दिल्ली में अनिश्चितकालीन अनशन शुरू कर दिया है तथा पुरे प्रदेशों में सभी कार्यकर्ताओं और गौभक्तों को अनशन और धरना प्रदर्शन करने को कहा है…!

आखिर गौमाता को राष्ट्रमाता का सम्मान दिलाना है । पुरे भारत को दिखा दो की गौभक्तो की ताकत कितना कुछ कर सकती है और गोपाल मणि महाराज जी का समर्थन हेतु हर जगह धरना प्रदर्शन और अनशन करें।

वहीं awarepress.com की की जानकारी के अनुसार आस्था चैनल पर सिर्फ 1 घंटे का प्रोग्राम डेढ़ से ढाई बजे तक दिखाया गया जबकी भारत की जनता को पहले से निर्धारित 1:30 से 3:00 बजे तक का समय दिया गया था।

संस्कार, आस्था व अन्य धार्मिक चैनलों पर दिन भर अनेक साधु-संतों व धर्म के बड़े व्यापारियों/ठेकेदारों के प्रोग्राम Live चलते रहे लेकिन धर्म की मूल गाय के सम्मान में मात्र एक दिन रामलीला से टोटल Live प्रसारण नहीं कर सकते? वही दूसरी और 350 मीडिया चैनलों में से किसी भी धार्मिक चैनल व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने गोपाल मणि महाराज के प्रोग्राम को नहीं दिखाया। वहीं दूरदर्शन पर आधा घंटे डिबेट हुआ ! यह इलेक्ट्रॉनिक मीडिया सिर्फ अपनी दुकान चलाना चाहते हैं। यदि केजरीवाल टट्टी भी करे तो इलेक्ट्रॉनिक मीडिया Live चाटकर बता सकती है की इसमें स्वाद कैसा है, इसने रात को क्या खाया था क्या नहीं खाया! लेकिन गौमाता से इनको कोई लेना-देना नहीं है। केवल एक गोपाल मणि महाराज है जो गौ माता के बारे में देश के लोगों को जगा रहे हैं। गाय बचेगी तो देश बचेगा, देश बचेगा तो हम बचेंगे न जाने कब समझेंगे देशवासी ?

”शुदर्शन न्यूज़” ने इस आयोजन का काफी प्रसारण सीधा Live किया जानकारी ये भी है की ”शुदर्शन न्यूज़” के प्रधान ने गौरक्षा व पंचगव्य आदि के प्रचार-प्रसार के लिए एक करोड़ की राशि की घोषणा की है !

128095आंदोलन में हैदरबाद से बीजेपी विधायक टी. राजा सिंह भी पहुंचे थे उन्होने सार्वजनिक मंच से कहा यदि गौभक्तों की बात को प्रधानमंत्री मोदी जी नहीं सुनते है तो भारत का पहला विधायक रहूँगा जो गौरक्षा के लिए पार्टी से स्थिफा देगा व बाद में अपनी तलवार के दम पर गौरक्षा होगी ! 

आहट है कैसी! वक़्त ये कैसा है आ गया ?
क्या खून में मेरे कोई पानी मिला गया !!
बनती थी पहली रोटी जहाँ गाय के लिए !
उस मुल्क में रोटी से कोई गाय खा गया !! (Kesar Devi)

गौमाता राष्ट्रमाता के चरणों में, हमारा कोटी-कोटी वंदन।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें