loading...

12342437_1189897114361065_6423050860649219237_n

loading...
यह दिमाग दूध से बना है अंडे से नहीं
(३ दिसम्बर : डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जयंती)
स्वतंत्रता से पूर्व का यह प्रसंग है । कांग्रेस कार्यकारिणी की एक विशेष बैठक बुलायी गयी थी, पर उसके प्रधान सदस्य काफी परेशान नजर आ रहे थे क्योंकि इस बैठक में जिस रिपोर्ट के आधार पर एक महत्त्वपूर्ण प्रस्ताव पारित करना था, वह नहीं मिल रही थी । स्वतंत्रता आंदोलन में हर कदम ठीक समय पर उठाना अत्यधिक आवश्यक था । ऐसी स्थिति में बिना आधार के कार्य कैसे आगे बढायें, यह सभीकी चिंता का विषय बना हुआ था ।


सदस्यों को अचानक ध्यान आया कि वह रिपोर्ट महात्मा गाँधी तथा डॉ. राजेन्द्र प्रसाद पढ चुके हैं । उस समय डॉ. राजेन्द्र प्रसाद पं. नेहरू, आचार्य कृपलानी आदि नेताओं के साथ चर्चा में मग्न थे । जब उनसे पूछा गया तो वे बोले : ‘‘हाँ, मैं पढ चुका हूँ और आवश्यकता हो तो बोलकर लिखवा सकता हूँ । सदस्यों को विश्वास न हुआ कि इतनी लम्बी रिपोर्ट एक बार पढने के बाद ज्यों-की-त्यों लिखायी जा सकती है, पर और कोई उपाय भी नहीं था । अतः रिपोर्ट की खोज के साथ पुनर्लेखन का कार्य भी आरम्भ किया गया ।


डॉ. राजेन्द्र प्रसाद जब सौ से भी अधिक पृष्ठ लिखवा चुके, तब वह रिपोर्ट भी मिल गयी । कौतूहलवश सदस्यों ने दोनों रिपोर्टों का मिलान किया तो कहीं भी अंतर न मिला । सभी आश्चर्यचकित रह गये । पंडित जवाहरलाल नेहरू ने प्रशंसा भरे स्वर में पूछा : ‘‘राजेन्द्र बाबू ! ऐसा आला दिमाग कहाँ से पाया ? इस पर उन्होंने सौम्य मुस्कान के साथ जवाब दिया : ‘‘यह दिमाग दूध से बना है, अंडे से नहीं ।


स्वस्थ मस्तिष्क के विकास के लिए जरूरी पोटैशियम तत्त्व गौदुग्ध में पाया जाता है । इसके अतिरिक्त मस्तिष्क को पोषण देनेवाले सभी पौष्टिक तत्त्व गौदुग्ध में विद्यमान होते हैं । प्राणियों के नाडी-मंडल एवं बुद्धि के विकास के लिए गौदुग्ध-शर्करा बहुत आवश्यक है । गौदुग्ध-सेवन से बुद्धि तीक्ष्ण और स्वभाव सौम्य व शांत बनता है, मन में पवित्र विचार उपजते हैं तथा मानसिक शुद्धि में मदद मिलती है ।


अतः भैंस के दूध से अधिक हितकारी गौदुग्ध का थोडा अधिक मूल्य चुकाना पडे तो हरकत नहीं, हमें गौदुग्ध ही लेना चाहिए ।
(लोक कल्याण सेतू सितम्बर २००५)

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें