loading...

नयी दिल्ली: भारत उभरते बाजार वाली अर्थव्यवस्थाओं में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाला देश होगा और उम्मीद है कि यह 2016 में 7.7% की वृद्धि दर्ज करेगा जो लगातार दूसरे साल चीन की आर्थिक वृद्धि से अधिक होगी। यह बात PWC की एक रिपोर्ट में कही गई।99941-indian-economy

loading...
नए साल (2016) के लिए अपने अर्थशास्त्रियों द्वारा पेश भविष्यवाणी प्रस्तुत करते हुए वैश्विक परामर्श कंपनी PWC ने कहा कि उभरती अर्थव्यवस्थाओं में से सिर्फ भारत के 2016 के दौरान दीर्घकालिक औसत वृद्धि दर के मुकाबले तेज वृद्धि दर्ज करने की उम्मीद है। 7 उभरती अर्थव्यवस्थाओं – (चीन, भारत, ब्राजील, मेक्सिको, रूस, इंडोनेशिया तथा तुर्की) में से भारत का प्रदर्शन सबसे अच्छा रहेगा जबकि ब्राजील और रूस की अर्थव्यवस्था में संकुचन तथा चीन की अर्थव्यवस्था में नरमी आएगी।

PWC ने कहा, हमें उम्मीद है कि भारत लगातार दूसरे साल चीन से ज्यादा तेजी से वृद्धि दर्ज करेगा और वास्तविक वृद्धि दर्ज करीब 7.7% रहेगी। इस साल जी7 अर्थव्यवस्थाओं (अमेरिका, जापान, जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, इटली और कनाडा) के 2010 के बाद से अब पहली बार सबसे अधिक तेज वृद्धि दर्ज करने की उम्मीद है। इसके उलट 7 उभरती अर्थव्यवस्थाएं अपने रूझान के मुकाबले धीमी वृद्धि दर्ज करेंगी लेकिन जी-7 के मुकाबले फिर भी तेज रहेंगी।

पीडब्ल्यूसी (PWC) ब्रिटेन के मुख्य अर्थशास्त्री जॉन हॉक्सवर्थ ने कहा, हमें उम्मीद है कि अमेरिका में 2016 के दौरान ज्यादा तेजी से सुधार होगा जबकि ब्रिटेन में उपभोक्ता केंद्रित वृद्धि बरकरार रहेगी। हमें कम से कम यूरोक्षेत्र संकट के अंत की शुरुआत की उम्मीद है। एक समय बेहद मजबूत रहे ब्रिक्स के लिए 2016 मुश्किल वर्ष रहेगा हालांकि भारत इनमें अपवाद रहेगा। PWC के मुताबिक 2016 में चीन की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर घटकर 6.5% रहेगी क्योंकि विनिर्माण एवं निर्यात में वृद्धि दर धीरे-धीरे कम होगी। रिपोर्ट में कहा गया कि भारत हालिया सुधार का लाभ उठाना बरकरार रखेगा। PWC ने कहा, भारत के केंद्रीय बैंक द्वारा पिछले साल नीतिगत दर 8% से घटाकर 6.75% करने से इस साल खपत और निवेश के समर्थन में मदद मिलेगी।

स्त्रोत : ज़ी मीडिया

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें