CM योगी ने जो कहा वो हर हाल में हो कर रहेगा, विश्वास न हो तो ये वीडियो देखिये…

वीडियो डेस्क , आपने एक हिंदी फिल्म का एक मशहूर डायलोग तो सूना ही होगा की “एक बार जो मैंने कमिटमेंट कर दी फिर में अपने आप की नहीं सुनता” जहां तक हमारा मानना हैं वो तो फिल्म थी लेकिन अगर भारतीय राजनीति की बात करे तब यह डायलोग यूपी के अभी हाल ही में मुख्यमंत्री बने योगी आदित्यनाथ जी के उपर बिलकुल फिट बैठता हैं |अब आपके दिमाग में एक सवाल आ सकता हैं की ये कैसे संभव हो गया तो आइये आपको बता दे की किसी फिल्म का यह मशहूर डायलोग योगी आदित्यनाथ जी पर फिट कैसे बैठ गया |

अब ज़रा याद कीजिये जब यूपी में विधानसभा के चुनाव होने वाले थे तब बीजेपी ने जनता से क्या क्या वादे किये थे | आज यूपी के सीएम बनने के बाद योगी आदित्यनाथ जी अपने सभी वादे पुरे करते दिखाई दे रहे है और जिस स्पीड से योगी आदित्यनाथ जी काम कर रहे हैं उसको देखकर लगता हैं की उत्तर प्रदेश अब विकास की ऐसी सीढ़िया चढ़ेगा की सम्पूर्ण संसार के सामने यदि इसका एक उदाहरण भी बन जाये तो इसमें कुछ आश्चर्य नही होगा | पीएम मोदी जी ने जनता से जो वादे किये थे आज योगी जी एक एक कर उनको पुरे करते दिखाई दे रहे हैं | अगले पेज पर वीडियो में देखिये कैसे सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे PM मोदी के सपनो को पूरा….

अगले पेज पर वीडियो में देखिये कैसे सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे PM मोदी के सपनो को पूरा…. 

पूरी खबर पढने के लिए अगले पेज पर जाए…

मोदी एक हिजड़ा है, और अगर ऐसा नहीं है तो मेरे साथ हमबिस्तर होकर अपनी मर्दानगी साबित करे…

छत्तीसगढ़- छत्तीसगढ़ के बस्तर जिले में वामपंथी महिला संगठनों की नेता कामरेड कविता कृष्णन ने आज फिर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि भारत का प्रधानमंत्री अमेरिका के इशारे पर 1000 और 500 का नोट बंद कर दिया है, जिससे हमारे बस्तर में रहने वाले आदिवासी भाइयों को आज भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है। 

उधोगपतियों का अरबों-खरबों का टैक्स माफ करने वाला यह प्रधानमंत्री देशद्रोही है गद्दार है। जो प्रधानमंत्री अपनी पत्नी का नहीं हुआ वह देश का कैसे होगा। यह देश का दुर्भाग्य है कि भारत को नरेंद्र मोदी जैसा नपुंसक प्रधानमंत्री मिला।

कविता कृष्णन ने अपने इस महिला सम्मेलन में आदिवासी महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि हम महिलाओं को फ्री सेक्स की आजादी चाहिए। हमें किसी भी पुरुष के साथ सेक्स करने की आजादी चाहिए। हम महिलाएं किसी भी मनपसंद पुरुष के साथ शारीरिक संबंध बनाकर अपने काम वासना की पूर्ति कर सकें। जब पुरुष किसी भी महिला के साथ शारीरिक संबंध बना सकता है, तो हम महिलाओं को भी अधिकार होना चाहिए, हम लोग भी किसी भी मनचाहे पुरुष के साथ शारीरिक संबंध बना सकें।

अगले पृष्ठ : कविता कृष्णन ने कहा कि….  

सुषमा स्वराज ने दिया पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर पर बड़ा बयान जिसे सुनकर छिड़ सकती है जंग!

जैसे ही बात आती है पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर की तो जहाँ इस गंभीर मुद्दे को लेकर दोनों मुल्कों के बीच तनातनी हमेशा से ही रही है वहीँ दूसरी तरफ वक़्त-बेवक्त राजनितिक पार्टियाँ इस मुद्दे पर भी अपनी रोटियां सेकने को तत्पर दिखाई देती हैं|

ऐसे में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने बुधवार को इसी गंभीर मुद्दे पर अपनी राय रखते हुए कहा कि, “गिलगित, बाल्टिस्तान को पांचवा प्रांत बनाने के पाकिस्तान के कदम को भारत पूरी तरह से खारिज करता है|” सुषमा स्वराज ने एक बार फिर पाकिस्तान को आईना दिखाते हुए कहा कि, “भारत इस संकल्प को दोहराता है कि पीओके, गिलगित, बाल्टिस्तान समेत पूरा का पूरा कश्मीर हमारा है|”

अपनी बात को कम मगर स्पष्ट शब्दों में रखने वाली सुषमा स्वराज ने कहा कि, “कश्मीर के बारे में लोकसभा और राज्य सभा दोनों में प्रस्ताव पारित है, संसद ने प्रस्ताव पारित किया है कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके), गिलगित, बाल्टिस्तान समेत पूरा का पूरा कश्मीर हमारा है|” गिलगित, बाल्टिस्तान को पाकिस्तान द्वारा पांचवां प्रांत बनाने की खबर आई तब भारत सरकार ने इसे बिना समय गंवाए खारिज किया|

सुषमा ने कहा कि आज जिसकी सरकार है, उस पार्टी का तो नारा ही रहा है कि, “जहां हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है, जो कश्मीर हमारा है, वो सारा का सारा है|’’ विदेश मंत्री ने कहा कि संसद का संकल्प तो है ही और हम तो स्वयं के संकल्प से भी बंधे हुए हैं| पाकिस्तान द्वारा गिलगित, बाल्टिस्तान को पांचवां प्रांत बनाने को हम अस्वीकार करते हैं|

पीएम मोदी ने लिए ये एहम फैसला जिससे मौत के मुंह में खड़े शख्स को मिला नया जीवन!

राजनीति के खेल में बहुत कम ही देखा गया है कि जब दो विपक्षी पार्टीयां कभी एक दूसरे के फैसले के समर्थन में उतरी हों| ऐसी ही कहानी है भाजपा और माकपा की भी| राजनीति में दोनों ही पार्टियों की ज़ुबानी जंग भी आम बात है लेकिन हाल ही में दोनों विपक्षी पार्टियाँ साथ आई और ज़िन्दगी और मौत से जूझ रहे एक शख्स को जीवनदान दिया| 

दरअसल दोनों विपक्षी पार्टियों ने एक साथ आकर कर अपनी दोनों किडनी गवां चुके एक गरीब युवक को बेहतर उपचार दिलाने के लिए इंसानियत का उदाहरण दिया और आपसी रंजिश भुला कर माकपा के राज्यसभा सदस्य ऋतब्रत बनर्जी के अनुरोध पर पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी निधि से आर्थिक सहायता मुहैया कराई है। पीएम मोदी और भाकपा सदस्य की इस मुहीम का असर ये हुआ कि अब जल्द ही इस युवक की दोनों किडनी का प्रत्यारोपण किया जाएगा।

जानिए कैसे पीएम मोदी के एक कदम ने इस मौत के मुंह में खड़े शख्स को दिया जीवनदान

दरअसल पश्चिम बंगाल के नदिया जिले के पलासी क्षेत्र निवासी 30 वर्षीय विवेक विश्वास की बीमारी के चलते दोनों किडनी खराब हो गई थी। ऐसे में अपने जवान बेटे को इस हालत में देखकर उसके परिवार वाले टूट गए थे। विवेक का इलाज तेहट महकमा अस्पताल में चला जिसके बाद उन्हें कोलकाता के एसएसकेएम अस्पताल में रेफेर कर दिया गया लेकिन सरकारी अस्पताल में बेटे के इलाज में सुस्ती बर्ती जाते देख बूढ़े माँ-बाप को एक बार फिर चिंता सताने लगी|

डॉक्टरों ने विवेक के परिवार को विवेक का तकरीबन 30 जांच कराने को कहा। इलाज में समय लगता देख अब परिवार का सब्र टूटने लगा और उन्होंने विवेक को एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाने का निर्णय ले लिया, लेकिन अधिक खर्च देख गरीब परिवार के पांव एक बार फिर डगमगाने लगे| परेशानी की इस घड़ी में विवेक के परिवार को किसी ने जानकारी दी कि उपचार के लिए सांसद निधि से भी धन मिलता है।

बस फिर क्या था, सांसद निधि इस समय तो मानो विवेक के परिवार के लिए डूबते को तिनके का सहारा साबित हुई| जानकारी मिलते ही विवेक के परिवार ने माकपा के राज्यसभा सदस्य ऋतब्रत बनर्जी से संपर्क साधकर मदद की गुहार की। सांसद ने भी उपचार में मदद का हाथ बढ़ाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी परिवार को आर्थिक मदद मुहैया कराने का अनुरोध किया।

विवेक के परिवार की ये गुहार सुनते ही पीएम मोदी ने अपनी निधि से 2.90 लाख रुपये अनुदान दिए जाने की आज्ञा दे| विवेक का कहना है कि मंगलवार सुबह इसकी जानकारी दिल्ली से सांसद ऋतब्रत बनर्जी ने उन्हें दी है और अब शीघ्र ही मुकुंदपुर के एक निजी अस्पताल में विवेक का किडनी प्रत्यारोपण किया जा सकेगा|

अब इजाज़त लेकर करेंगे श्रीराम की पूजा ? हिंदुओं की आस्था से खिलवाड़ आसान ?

ताल ठोक के: अब इजाज़त लेकर करेंगे श्रीराम की पूजा ? हिंदुओं की आस्था से खिलवाड़ आसान ?

बंगाल में आज होने वाले राम नवमी समारोह पर ममता सरकार ने बंगाल में रोक लगा दी थी| जिसके बाद लोग कलकत्ता हाईकोर्ट भी गए और कोर्ट ने इस रोक को खारिज कर दिया है| अब सवाल ये उठता है की ऐसी नौबत आई ही क्यों ? क्या ममता बनर्जी अपने हिसाब से लोगों के धर्म को चलाएंगी|

यह बात सुनकर ममता बनर्जी खुद के गिरेवान पर झाँकने को हो जायेंगी मजबूर…

बंगाल में आज होने वाले राम नवमी समारोह पर ममता सरकार ने बंगाल में रोक लगा दी थी| जिसके बाद लोग कलकत्ता हाईकोर्ट भी गए और कोर्ट ने इस रोक को खारिज कर दिया है| अब सवाल ये उठता है की ऐसी नौबत आई ही क्यों ? क्या ममता बनर्जी अपने हिसाब से लोगों के धर्म को चलाएंगी|

ममता बनर्जी ने अपने एक ब्यान में कहा की राम नवमी कोई दंगा फसाद करने का मौका नहीं है बल्कि मानवता और प्रेम का त्यौहार है| ममता बनर्जी का कहना है की मेरी सरकार बंगाल में सांप्रदायिक भावनाए पनपने नहीं देगी| ये कोई पहला मौका नहीं है जब ममता ने हिन्दुओं की आस्था को ठेस पहुचाई हो, इससे पहले भी वे दुर्गा पूजा पर भी रोक लगा चुकी है| इससे तो यही अंदाज़ा लगाया जा सकता है की वोट बैंक के खातिर ममता ने श्री राम के नाम का फायेदा उठाकर उन्ही पर चोट लगा दी है|

इस पर भी ममता का कहना था की राम नवमी के दिन भगवान् राम की पूजा होती है और भगवान् राम रावण का वध करने के लिए अवतरित हुए थे यह दिन प्यार का प्रतीक है और हमारे बंगाल में पुराण और कुरान दोनों के लिए जगह है न की सिर्फ एक धर्म के लिए|

वहीँ ममता बनर्जी द्वारा मुस्लिमों के हित में और हिन्दुओं के खिलाफ बातें सुनते ही बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा बिलकुल भी नहीं रुके थामें और सीधा ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए संबित पात्रा ने ममता बनर्जी की धजियाँ उड़ा दी|

संबित ने कहा की ममता बनर्जी चाहे जितनी मर्जी नमाज अदा कर लें लेकिन उनका नाम हमेशा इतिहास में जय चन्द के ही नाम से लिया जायेगा| साथ ही संबित ने बंगाल के मुसलमानों से गुज़ारिश करते हुए कहा की आप लोगों से विनती है की ममता बनर्जी की बातों में न आयें क्योंकि जो इंसान अपने धर्म का न हुआ वो आपका क्या होगा यह सब वोट बैंक के लिए हो रहा है|

देखें वीडियो-

आपको बता दें की ममता बनर्जी के राज में जिस तरह पुरे बंगाल में हिन्दुओं का दमन हो रहा है अगर ऐसा ही चलता रहा तो वो दिन भी दूर नहीं जब बंगाल हिन्दुओं के लिए दूसरा कश्मीर बन जाएगा|

जिसे अपनी ढाल बनाया था उसी राम जेठमलानी ने अपने इस बयान से केजरीवाल को कहीं का नहीं छोड़ा!

अरुण जेटली मानहानि केस में केजरीवाल के वकील राम जेठमलानी ने एक बड़ा ही चौंकाने वाला खुलासा किया है जिससे केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

अरविन्द केजरीवाल ने हाल ही में पूरी दिल्ली की जनता को धोखा दिया है जिसके बाद से अधिकांश लोगों का केजरीवाल से भरोसा उठ गया है l अरविन्द केजरीवाल अपने केस के लिए सरकारी पैसे का इस्तेमाल करना चाहते थे, लेकिन उन्होंने जिस वकील को केस लड़ने के लिए दिया था उन्होंने ही केजरीवाल के बारे में ऐसा खुलासा किया है कि अब उनका बचना नामुमकिन है l

राम जेठमलानी ने अपने एक बयान में कहा है कि “मैंने आडवाणी, अमित शाह और बाल ठाकरे जैसे बड़े नेताओं के लिए भी केस लड़ा है लेकिन उनसे एक रुपया भी फीस के नाम पर नहीं लिया। केजरीवाल के मामले में सफाई देते हुए उन्होंने कहा कि मैंने तो केजरीवाल से भी फीस के लिए नहीं कहा था लेकिन जब उन्होंने मुझपर जोर डाला तो मैंने बिल बनाकर भेज दिया।” इसके साथ ही जेठमलानी ने ये भी कहा कि उन्होंने केजरीवाल को फीस में डिस्काउंट दिया है।

इसके बाद उन्होंने बताया कि, मैं अन्य क्लायंट्स से कई तरह के टैक्सेज की फीस लेता हूं,वो भी मैंने मांगी ही नहीं है,  ।उन्होंने केजरीवाल को पेशी की फीस भी कम बताई है। इसके अलावा हर पेशी के बाद होने वाली कॉन्फ्रेंस के लिए भी मैंने कोई पैसा नहीं मांगा है।

जेठमलानी फीस के लिए दवाब नही डाल रहे तो केजरीवाल सरकारी खजाने से पैसा क्यों निकालना चाहते हैं? जब जेठमलानी फीस में रियायत भी दे रहे हैं तो आखिर केजरीवाल 3.8 करोड़ का बिल LG के पास क्यों भेज रहे हैं? कहीं जेठमलानी के नाम पर केजरीवाल जनता का पैसा तो नही खाना चाहते?a

आपको बता दें कि फीस मुद्दे पर जब विवाद ज्यादा बढ़ गया था तो राम जेठमलानी ने कहा था कि अगर दिल्ली सरकार उनकी फीस देने में अक्षम है, तो वह मुफ्त में केजरीवाल के केस लड़ेंगे। उन्होंने तंज कसते हुए कहा था कि मैं गरीबों का केस मुफ्त में लड़ता है और केजरीवाल को गरीब मानकार ही केस लडूंगा l

शर्मनाक: वो बच्चा वहां एम्बुलेंस में मौत से लड़ रहा था और इधर इस VIP का काफिला….

आजकल के समय के हिसाब से सही ही कहा गया है कि हम इस भागदौड़ भरी ज़िन्दगी में इंसान की जान की कोई कीमत नहीं समझते और शायद तभी तो कभी सड़क लहूलुहान पड़े इंसान के साथ फोटो खींचना लोगों को ज़्यादा ज़रूरी लगता है तो कभी एम्बुलेंस रोक कर वीआईपी लोगों की गाड़ी गुजरने के लिए की जान से खेलना आजकल ट्रेंड बनता जा रहा है|

ऐसा ही एक दुर्भाग्यपूर्ण मामला सामने आया है जहाँ एक बार फिर दिल्ली पुलिस का यह ग़ैरज़िम्मेदाराना रवैये ने लोगों को गहरा झटका दिया है| दरअसल दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय स्टेडियम के सामने एक एम्बुलेंस को आगे बढ़ने से रोक दिया गया क्योंकि वहां से एक वीआईपी काफ़िला गुज़र रहा था| एम्बुलेंस एक ज़ख़्मी, खून से लथपथ बच्चे को अस्पताल लेकर जा रही थी|

सोशल मीडिया पर ये वीडियो इस वक़्त वायरल हो रहा है| इस वीडियो में स्पष्ट रूप से दिख रहा है कि पुलिस ने रास्ता रोक रखा है और आस-पास खड़े लोग पुलिस से एम्बुलेंस को आगे जाने देने के लिए कोशिश कर रहे हैं| घटना दिल्ली के इंदिरा गांधी राष्ट्रीय स्टेडियम के गेट संख्या 14 के सामने आईपी एस्टेट की है| उस मार्ग से मलेशिया के प्रधानमंत्री का काफ़िला गुज़रने वाला  था| पुलिस ने बैरिकेड लगाकर रास्ता रोक रखा था|

देखिये वीडियो: 

हालाँकि इस पूरे मामले में पुलिस का कहना है कि वो लोग सिर्फ प्रोटोकॉल और आदेशों का पालन कर रहे थे| एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि वह एम्बुलेंस भीड़ में काफी पीछे फंसी थी जिसे उनके द्वारा गाड़ियों की पंक्ति में सबसे आगे लाया गया और कुछ ही मिनटों में उसे रवाना भी कर दिया गया|

फाइव स्टार होटल का आराम छोड़ कर इस नेता ने अपनाया गौशाला में रहना

यदि हममें से किसी के पास भी फाइव स्टार होटल में रहने का मौका हो तो हम बहुत ही उत्साह के साथ उस मौके को अपना लेंगे| लेकिन इस नेता ने हमारी इस सोच को गलत साबित कर दिया| भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय मंत्री एस सुरेश कुमार ने फाइव स्टार होटल में रहने का मौका छोड़ कर म्य्सूर के गाँव के गौशाला में रहना पसंद किया|

हालाँकि खुली जगह या गौशाला में रहना कुमार के लिए कोई नई बात नहीं है| सुरेश कुमार ने कहा-” मैं पहले भी बेंगलुरु से तिरुपति की 2013 की यात्रा में खुली जगहों पर रह चुका हूँ| मैं ऐसी जगहों पर तब भी रह चुका हूँ जब मैंने धर्मस्थल और सबरीमाला के लिए 2015 में पदयात्रा की थी|”

कुमार बेंगलूर दक्षिण उपनगर में राजजिनगर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं और 9 अप्रैल के लिए निर्धारित होने वाले नानजंगुद उप-चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार श्रीनिवास प्रसाद के लिए प्रचार कर रहे हैं।

कुमार ने कहा-“पार्टी के नेताओं ने मेरे लिए अच्छे से अच्छा रहने का बंदोबस्त किया था पर मैंने उसे न स्वीकारने का निश्चय किया|” वे दिन भर काम्पैन्गिंग से थक क्र आने के बाद गौशाला में रहना ज्यादा पसंद करते हैं| गौशाला में वे समाचार पत्र पढकर और अपने अनुयायियों से बात चीत करके अपना समय बिताते हैं| अपनी निष्कलंक समझ बूझ कि वजह से अक्सर ही वे लोगो को अपनी बातों की ओर आकर्षित कर लेते हैं|

हमेशा हंसाने वाले हुकुमदेव नारायण जी ने सदन में कर दिया सबको भावुक !

हुकुमदेव नारायण यादव जी अपने भाषणों की वजह से हमेशा चर्चा में रहते हैं. उनका बोलने का अंदाज़ और जनसुलभ भाषा उनके भाषणों में और जान भर देती है. उनको देखकर ही हम अंदाज़ा लगा सकते हैं कि वो जमीन से जुड़े आदमी हैं

विपक्षी पार्टियों को धूल चटाने में हुकुम देव कभी भी दो बार नहीं सोचते| समय-समय पर विपक्षी पार्टियों का असलियत से सामना कराने में हुकुम देव का यक़ीनन कोई तोड़ नहीं है| अपनी इसी परंपरा को जारी रखते हुए एक बार फिर लोकसभा में हुकुम देव ने कांग्रेस की जबरदस्त बैंड बजायी है  l इस बार उनकी ये स्पीच कुछ अलग है जिसे सुनकर आप भी भावुक हो जायेंगे…

देखिए वीडियो !