loading...

Love जिहाद की अब तक की सबसे बड़ी सच्‍चाई, 3 हजार से ज्‍यादा मामले?

loading...
उत्तर प्रदेश चुनाव नजदीक हैं और एक बार फिर लव जिहाद का मुद्दा उठा है। मुद्दा एक ऐसे संगठन ने उठाया, जिससे सभी पल्ला झाड़ते हैं। इस संगठन ने स्कूलों में संस्कार शाला लगाने की बात कही और यहीं से मुद्दा उठा। इसमें कोई दो राय नहीं कि ये राजनीति से प्रेरित कदम दिखाई पड़ता है। इस पर वीएचपी और अन्य संगठनों के प्रवक्ताओं से बात हुई, तो उन्होंने कहा कि ये उस संगठन का मामला है उनके किसी अभियान पर हम क्या कहें? बीजेपी ने तो ये तक कहा कि हमारे मेनीफेस्टो में ऐसा कोई शब्द कहीं नहीं लिखा है। इस पर हम क्या कह सकते हैं?

अब जब सवाल आया कि क्या लव जिहाद होता है भी है या नहीं? इस पर एक सुर में सभी समर्थन करते दिखाई दिए, हां लव जिहाद के बारे में लंबी बहस है और इससे इंकार नहीं किया जा सकता। यहां तक कि शुरूआत में इसे सिरे से नकारने वाली कांग्रेस ने भी बाद में कहा लव जिहाद होता है, लेकिन बीजेपी और उससे जुड़े संगठन इसका राजनैतिक फायदा उठाना चाहते हैं।

ये बात तो साफ हो गई कि ये एक राजनैतिक मुद्दा है, लेकिन सवाल ये गहरा गया कि क्या लव जिहाद वाकई एक समस्या है? इस मुद्दे को जब खंगाला तो समझ आया कि सचमुच ऐसे विंग हैं, इन लोगों को राजनीति करने की वजहें दे रहे हैं। कई ऐसी घटनाएं हैं जो ये भी साफ करती है कि लव जिहाद सिर्फ राजनैतिक दलों का मुद्दा नहीं है बल्कि इसकी भयानक हकीकत भी है। मेरे इस लेख के बाद नेट पर भी कुछ ‘साइबर जिहादी’ फौरन कूद पड़ेंगे इसीलिए तथ्यों के साथ शुरूआत करते हैं। लव जिहाद का मुद्दा केरल से उठा।

1 of 4
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें