loading...

नई दिल्ली : दिल्ली हाई कोर्ट में शुक्रवार को एक याचिका दायर की गई, जिसमें भारतीय जनता पार्टी का चुनाव चिह्न कमल का फूल इस आधार पर वापस लेने का अनुरोध किया गया, क्योंकि यह भगवान के स्वरूप को प्रदर्शित करता है और चुनावों के दौरान इसका उपयोग गैरकानूनी है।BJP-b241014

loading...

चीफ जस्टिस जी. रोहिणी और जस्टिस राजीव सहाय एंडला की पीठ ने याचिकाकर्ता द्वारा व्यक्तिगत रूप से हिंदी में अपनी दलीलें देने के बाद इस मामले को एक अन्य बेंच के पास भेजकर इसकी सुनवाई अगले साल पांच जनवरी तय की।

 बेंच ने कहा कि इस मामले को एक अन्य बेंच के सामने पांच जनवरी 2016 के लिए सूचीबद्ध किया जाता है। एक गैर सरकारी संगठन ने इस याचिका में कहा है कि प्रतिवादियों विधि एवं न्याय मंत्रालय तथा चुनाव आयोग को निर्देश दिया जाए कि राष्ट्रीय न्याय के हित में कमल के फूल को चुनाव आयोग के स्वतंत्र चिह्नों की सूची से और बीजेपी के चुनाव चिह्न से हटाया जाए।
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें