loading...

phpThumb_generated_thumbnail

loading...
गुजरातः 5 महानगरपालिकाओं में भाजपा को बढ़त, जिला पंचायतों में कांग्रेस आगे –

निकाय चुनावों में कुछ ग्रामीण क्षेत्रों में कांग्रेस को बढ़त, हार्दिक पटेल के घर में भाजपा की जीत

अहमदाबाद। गुजरात में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी सरकार के लिए ‘अग्निपरीक्षा’ करार दिए जा रहे स्थानीय निकाय चुनाव की मतगणना आज सुबह नौ बजे से शुरू हो गई और शुरूआती रूझानों के अनुसार 5 महानगरपालिकाओं में भाजपा फिर से जीत हासिल करती दिख रही है, जबकि विपक्षी कांग्रेस 1 महानगरपालिकाओं और कई ग्रामीण निकायों में बेहतर प्रदर्शन की ओर बढ़ती दिख रही है। कांग्रेस का प्रदर्शन न केवल कुछ ग्रामीण क्षेत्रों अच्छा दिख रहा है, बल्कि इसने भाजपा का गढ़ माने जाने वाले शहरी निकायों में भी इसने अप्रत्याशित रूप से चौकाऊ रूझान दिये हैं।

भावनगर महानगरपालिका के पूर्व मेयर तथा वार्ड नंबर एक से भाजपा प्रत्याशी बाबूभाई सोलंकी चुनाव हार गये हैं। कांग्रेस के अरविंद परमार ने उन्हें हराया है। वार्ड की चार में से तीन सीटें कांग्रेस ने जीती हैं। भावनगर में भाजपा के जिला प्रमुख चिमन यादव भी वार्ड नंबर चार में कांग्रेस के हाथों हार गये हैं। राजकोट महानगरपालिका के वार्ड नंबर 16 से भाजपा के प्रत्याशी तथा पूर्व मेयर अशोक डांगर की भी पराजय हुई है। हालांकि राज्य की सबसे बड़ी महानगरपालिका अहमदाबाद पर एक बार फिर भाजपा के कब्जे के संकेतों के बीच मेयर मीनाक्षीबेन पटेल ने जोधपुर वार्ड से बड़ी जीत हासिल की है। शहर में पाटीदार अथवा पटेल आरक्षण आंदोलन का गढ रहे निकोल तथा नरोडा क्षेत्र में भाजपा ने अप्रत्याशित जीत हासिल की है। वडोदरा, राजकोट तथा जामनगर महानगरपालिका में भी भाजपा मजबूत दिख रही है। सूरत और भावनगर में कांग्रेस से उसे टक्कर मिल रही है।

भाजपा ने सूरत के नवगठित कडोदरा तालुका पंचायत की 28 में से 21 सीटे जीत कर इस पर कब्जा जमा लिया है। कांग्रेस ने गांधीनगर जिला पंचायत पर फिर से जीत हासिल की है। उधर पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल के निवास क्षेत्र अहमदाबाद जिले के वीरमगाम नगरपालिका के वार्ड 2 में भाजपा की जीत हुई है। दो चरणों वाले चुनाव के तहत 22 नवंबर को छह महानगरपालिकाओं अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, जामनगर और भावनगर के लिए करीब 95 लाख मतदाताओं में से लगभग 45 प्रतिशत ने मतदान किया था। इनकी कुल 570 सीटों पर 1856 उम्मीदवार मैदान में हैं जिनमें भाजपा के 570 तथा तथा मुख्य विपक्षी कांग्रेस के 561 हैं। सूरत और वडोदरा की एक एक सीट भाजपा ने निर्विरोध जीत ली है। सभी छह महानगरपालिकाओं में पिछली बार भाजपा ने जीत हासिल की थी।

दूसरे चरण में 29 नवंबर को 56 नगरपालिका, 31 जिला पंचायत तथा 230 तालुका पंचायत के लिए औसतन 62 प्रतिशत मतदान हुआ था। इनमें से अधिकतर पर भी पिछली बार भाजपा की ही जीत हुई थी। इसके लिए 19000 से अधिक उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर है। नगरपालिका के लिए 27, जिला पंचायत के लिए सात तथा तालुका पंचायतों के लिए 54 उम्मीदवार पहले ही निर्विरोध चुने जा चुके हैं। नगरपालिका के लिए करीब 36 लाख तथा जिला और तालुका पंचायत के लिए कुल दो करोड 23 लाख मतदाता थे। जिला पंचायत के लिए कुल 588, तालुका पंचायत के लिए कुल 4778 और नगरपालिका के लिए 2088 सीटें हैं।

उप चुनाव आयुक्त ए रामानुज ने यूनीवार्ता को बताया कि मतगणना नौ बजे शुरू हुई है तथा सभी परिणाम दोपहर तक आ जायेंगे। उन्होंने बताया कि नये नियमों के मुताबिक नगरीय निकायों में पहले महिला प्रत्याशियों के लिए सुरक्षित सीटों के परिणाम घोषित किये जाएंगे। उधर सत्तारूढ भाजपा ने जहां अपनी जीत का दावा दोहराया है वहीं विपक्षी कांग्रेस के नेता शंकर सिंह वाघेला नेे कहा कि परिणाम सत्तारूढ दल के लिए भूचाल की तरह होंगे और कांग्रेस 80 प्रतिशत सीटों पर जीत हासिल करेगी।

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें