loading...

itihaas

loading...

सबसे लास्ट भाग तक जरूर पढ़े… इसको ज्यादा से ज्यादा share कराये… 

राजीव भाई दीक्षित जी ने जो भारत स्वाभिमान ट्रस्ट में जो भाषण दिया था उसको को हम आपकी लिखित रूप में दे रहे है आपसे आशा रखते है की आप इसको ज्यादा से ज्यादा share करेंगे व अन्य भारतीय लोगों को पढ़ने के लिए प्रेरित करेंगे…..  हम लेख को ठीक वैसे ही लिख रहे है जैसे राजीव भाई ने बोला है उनके सभी शब्दों को लिखित (टेक्स्ट) का रूप में देना ही हमारा कार्य है…..

भारत स्वाभिमान के सभी सम्मान्नीय बहनों भाइयों, भारत देश का भूतकाल कैसा था, अतीत कैसा था, इसके बारे में मुझे आपसे कुछ बात कहनी है. पूज्य स्वामी जी का उसके लिए निर्देश है. मैं उसके लिए आपके सामने कुछ प्रमाण प्रस्तुत करूंगा, उन प्रमाणों के आधार पर हम सब उस बात का अंदाजा लगा लेंगे, आकलन कर लेंगे की भारत का अतीत कैसा था? भारत का एक अतीत तो है जो बहुत पुराना है वेदों के समय का है, वेद कालीन है और वह दसवीं शताब्दी तक चलता है, वेदों के समय से ले कर दसवीं शताब्दी तक का, परम पूजनीय स्वामी जी ने उसके बारे में आपसे जरूर बात की होगी. मैं आपको भारत के उस अतीत के बारे में बात करूंगा जो अभी हाल में हमारे सामने रहा  १५० – २०० साल पहले तक अठारहवीं शताब्दी तक सत्रहवीं शताब्दी तक सोलहवीं शताब्दी तक, पंद्रहवीं शताब्दी तक माने आज से लगभग १०० – १५० साल पहले से शुरू कर के और पिछले हजार साल का जो भारत का इतिहास है कैसा है वह उसके बारे में थोड़ी सी बात करूंगा. और एक जानकारी आपको स्पष्टता के लिए बता देना चाहता हूँ, वह ये कि भारत के इतिहास पर भारत के अतीत पर दुनिया भर के २०० से ज्यादा विद्वान इतिहास विशेषज्ञों ने बहुत ज्यादा शोध किया बहुत शोध किया, और दुनिया भर के ये २०० से ज्यादा विद्वान शोधकर्ता इतिहास के विशेषज्ञ भारत के बारे में क्या कहते रहे है, इनमें से कुछ विशेषज्ञों की बात आपके सामने रखूंगा. सभी विशेषज्ञों का रखना बड़ा मुश्किल है क्योंकि २०० विशेषज्ञों का काफी समय जाएगा लेकिन उसमें से जो प्रमुख है मुख्य है वैसे ८ – १० विशेषज्ञों की बात आपके सामने रखूंगा, और ये सारे विशेषज्ञ भारत से बहार के है कुछ अंग्रेज है, कुछ सकोटीश है, कुछ अमरीकन है कुछ फ्रेंच है, कुछ जर्मन है. ऐसे दुनिया के अलग अलग देशों के विशेषज्ञों ने भारत के बारे में जो कुछ कहा है, लिखा है और उसके जो प्रमाण दिए है उन पर बात मुझे कहनी है।

1 of 20
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...