loading...

banglaबहुत कम हिन्दुस्तानी जानते हैं कि बांग्लादेश के राष्ट्रगान में एक-दो, नहीं, आठ बार ‘मां’ शब्द आता है! सुनने में नहीं आया कि वहां मुसलमानों, या ओवैसी जैसे इस्लाम के ठेकेदारों ने ‘माँ’ शब्द के उनके राष्ट्रगान में होने पर आपत्ति जताई हो!

बांग्लादेश का राष्ट्रगान है! मजे कि बात यह है कि हिंदुस्तान की तरह ही, बांग्लादेश का राष्ट्रगान भी रविंदरनाथ टैगोर जी कि आमार शोनार बांग्ला

loading...
 रचना है! जो आज बांग्लादेश का राष्ट्रगान है, उस गीत कि रचना सन 1905 में, बंगाल के विभाजन के बाद हुई थी!

यह विभाजन, धर्म के आधार पर किया गया था| पूर्वी हिस्से में अधिकतर मुस्लिम थे और पश्चिमी बंगाल में अधिकतर हिन्दू! जाहिर तौर पर, अंग्रेजी हुकूमत ने, बंगाल को पूर्वी बंगाल और पश्चिमी बंगाल में बाँट कर, अपने खिलाफ खड़े हो रहे जनसैलाब को तोड़ने कि योजना बनाई थी और वो काफी हद तक, इसमें सफल भी रहे!

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें