loading...

BANGLA

loading...

ढाका – बांग्लादेश में अल्पसंख्यक समुदाय पर हो रहे हमलों की कड़ी में शुक्रवार सुबह एक मंदिर के अंदर हिंदू पुजारी की हत्या कर दी गई। मृतक का नाम श्यामनंदो दास था और उनकी उम्र 45 साल थी। राजधानी ढाका से 300 किलोमीटर की दूरी पर स्थित झिनाइदा जिले के मुख्यालय में एक मंदिर के सामने तड़के सुबह कुल्हाड़ी से काटकर श्यामनंदो की हत्या कर दी गई। स्थानीय पुलिस और प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने इस वारदात के बारे में जानकारी दी।

झिनाइदा जिला प्रशासन के प्रमुख महबूबुर रहमान ने बताया, ‘शुक्रवार तड़के सुबह वह सुबह की पूजा के लिए फूल तोड़ रहे थे। उसी समय बाइक से 3 युवक वहां आए और कुल्हाड़ी से उन्हें काटकर उनकी हत्या कर दी और वहां से भाग गए। इस हत्या का तरीका भी स्थानीय आतंकियों के तरीके जैसा ही था, लेकिन हम फिलहाल इस बारे में विस्तार से कुछ नहीं कह सकते हैं।’

मुस्लिम बहुल बांग्लादेश में पिछले कुछ महीनों के दौरान इस्लामिक कट्टरपंथियों द्वारा उदारवादी कार्यकर्ताओं, धर्मनिररपेक्ष ब्लॉगर्स, मुस्लिम समुदाय के अल्पसंख्यक गुटों और अन्य धार्मिक समूहों को बार-बार निशाना बनाया जा रहा है। ताजा वारदात के बारे में बताते हुए पुलिस ने कहा कि उन्हें फिलहाल इस हत्या की मंशा का पता नहीं चल पाया है। अभी तक इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी नहीं हुई है।

हाल में हुई इस तरह की कुछ हत्याओं की जिम्मेदारी IS ने ली है, लेकिन सरकार बांग्लादेश में IS की मौजूदगी से इनकार करती आई है। सरकार का कहना है कि इन हत्याओं के पीछे बांग्लादेशी कट्टरपंथियों का हाथ है।

लेटेस्ट कॉमेंट – साप को दूध पिलाओगे तो वो पलटकर पक्का डसेगा… इस्लाम नामक मजहब (कबीलों की उपज) समर्थक और साप में ज्यादा कोई फर्क नहीं है….।

दिनेश वर्मा

CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...