loading...
1
loading...
‘मैं तुम्हारी रोशनी और तुम मेरे हाथ बनोगे’ कुछ इसी संदेश के साथ मध्यप्रदेश के बालाघाट जिले में एक प्रेम विवाह मिसाल बन गया. इस रिश्ते की खासियत यह हैं कि दुल्हन के दोनों हाथ नहीं है, वहीं दूल्हा अपनी आंखों से इस दुनिया को देख नहीं सकता.
2
बालाघाट जिले का एडीएम कोर्ट इस अनूठी शादी का मिसाल बना. कटंगी के प्रमोद विश्वकर्मा अपनी आंखों से दुनिया नहीं देख सकते, वहीं, हट्टा के पेंडरई में रहने वाली उनकी दुल्हन धनवंती पांचे के दोनों हाथ नहीं हैं.
3
दोनों की प्रेम कहानी किसी मुंबईया मसाला फिल्म से कम नाटकीय नहीं है. दरअसल, प्रमोद विश्वकर्मा, कटंगी के तहसील कार्यालय में कार्यरत हैं. वहीं, धनवंती, जनपद कार्यालय में कम्प्यूटर ऑपरेटर थी.

1 of 3
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें