loading...

सीरिया जाएगा अल-कायदा, इस्लामिक स्टेट को देगा चुनौती

loading...

एरिक श्मिट, वॉशिंगटन – पाकिस्तान में करीब 10 सालों तक अमेरिकी एजेंसी CIA के ड्रोन हमलों से पस्त हो चुके अल-कायदा के शीर्ष नेताओं ने तय किया है कि अब सीरिया का रुख किया जाए। इस आतंकी संगठन ने खामोशी से अपने एक दर्जन से ज्यादा कमांडरों को वहां तैनात भी कर दिया है।

अमेरिका और यूरोप के शीर्ष खुफिया और आतंकवाद-रोधी अभियान के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। अपने जिहादियों को सीरिया में तैनात करने से पता चलता है कि अल-कायदा के लिए इस देश का क्या महत्व है। पश्चिमी अधिकारियों ने कहा है कि अल-कायदा और वहां पहले से मौजूद आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के बीच खूनी टकराव होने के आसार हैं।

सीरिया में अल-कायदा के संचालनकर्ताओं से कहा गया है कि वह अलग हेडक्वॉर्टर बनाना शुरू कर दें और अपने सीरियाई सहयोगी संगठन नुसरा फ्रंट की मदद से नेटवर्क बनाने के लिए जमीनी काम करें ताकि इस्लामिक स्टेट से मुकाबला किया जा सके। नुसरा फ्रंट 2013 में आईएस से अलग हो गया था। यह अल-कायदा और इसके सहयोगी की रणनीति में अहम बदलाव होगा। ऐसा हुआ तो यह अमेरिका और यूरोप के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है।

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें