loading...

Adanikarjdar

loading...

नई दिल्ली : बैंकों से करोड़ों का लोन लेने के बाद वापस नहीं करने वाले कॉर्पोरेट घरानों को लेकर अब वित्त मंत्रालय सख्त होता दिखाई दे रहा है। वित्त मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि देश की ऐसी 10 बड़ी कंपनियों को मंत्रालय ने साफ़ निर्देश दे दिए हैं कि अगर उन्होंने जल्द बैंकों के हजारों करोड़ रूपये वापस नहीं किये तो उनके खिलाफ सरकार सख्त कार्रवाई करने में कोई कोताही नहीं बरतेगी। मंत्रालय का कहना है कि इन कंपनियों ने अगर निर्देशों का पालन न करते हुए ऐसा किया तो उन्हें डिफ़ॉल्टर घोषित किया जायेगा।

सूत्रों के अनुसार वित्त मंत्रालय ने जिन 10 बड़ी कंपनियों को ये निर्देश दिए हैं उनमे पीएम मोदी के करीबी माने जाने वाले उद्योगपति गौतम अडानी और अनिल धीरूभाई अंबानी की कंपनी रिलायंस का भी नाम शामिल है। एक रिपोर्ट के मुताबिक जिन कारपोरेट घरानों पर बैंकों का 500 करोड़ से उनमे अडानी ग्रुप – 96,031 करोड़, जेएसडब्ल्यू ग्रुप- 58,171 करोड़, एस्सार ग्रुप – 1.01 लाख करोड़, अनिल अम्बानी – 1.13 लाख करोड़, वेदांता – 90,000 हजार करोड़  जीएमआर ग्रुप – 47976 करोड़, जीवीके – 33933 करोड़, लैंको ग्रुप – 47102 करोड़, और वीडियोकॉन पर 45,405 करोड़ का कर्ज बाकी है।

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें