loading...

नई दिल्ली। तालाब में डूब रहे अपने दोस्तों को बचाने के प्रयास में अपनी जान गंवाने वाले महाराष्ट्र के गौरव कवडूजी सहस्त्रबुद्धे सहित कुल 25 बच्चों को इस वर्ष के राष्ट्रीय बाल वीरता पुरस्कार के लिए चुना गया है। Untitled2-1453128159

loading...
भारतीय बाल कल्याण परिषद् (आईसीसीडब्ल्यू) ने वर्ष 2015 के राष्ट्रीय बाल वीरता पुरस्कार के लिए तीन बच्चियों समेत कुल 25 बहादुर बच्चों के नामों की घोषणा की है। महाराष्ट्र के गौरव कवडूजी सहस्त्रबुद्धे(15) और उत्तर प्रदेश के शिवांश सिंह(13) को  मरणोपरांत वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। गौरव को राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के सर्वोच्च सम्मान ‘भारत पुरस्कार’ से सम्मानित किया जाएगा।

वीरता पुरस्कार के लिए चयनित किए गए इन सभी बच्चों को 24 जनवरी को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी एवं अन्य गणमान्य पदाधिकारियों की मौजूदगी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सम्मानित किया जाएगा तथा ये सभी बच्चे 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होंगे।
महाराष्ट्र के नागपुर के दिवंगत गौरव कवडूजी सहस्त्रबुद्धे के पिता ने मीडिया को बताया,’हमारे दो बेटों में से छोटा गौरव बहुत बहादुर था। उसे तैरना नहीं आता था इसके बावजूद वह अपने दोस्तों को डूबते देख उन्हें बचाने के लिए तालाब में कूद पड़ा। अपने दोस्तों को तालाब से बाहर निकालने के दौरान वह काफी थक गया था और गहरे तालाब में डूब गया। उसे कबड्डी खेलना काफी पसंद था और बड़ा होकर इंजीनियर बनना चाहता था।’

Next पर क्लिक कर पूरी जानकारी पढ़े….

1 of 2
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें