loading...

49_1456651279

loading...
खगोलविद् वराहमिहिर।

इंदौर।यूएस का वैज्ञानिक संस्थान नासा और भारत का इसरो मंगल ग्रह के बारे में जिन तथ्यों पर रिसर्च कर रहे हैं, उनका उल्लेख तो 1500 साल पहले ही एक भारतीय वैज्ञानिक ने अपनी किताब में कर दिया था। ये खगोलविद् और कोई नहीं वराह मिहिर थे। उनकी इस रिसर्च से वैज्ञानिक अाज भी हैरान हैं। उज्जैन जिले के कपिथा गांव में हुआ था जन्म… (28 फरवरी को वर्ल्ड साइंस डे है। इस मौके पर awarepress.com आपको प्रख्यात खगोलविद वराहमिहिर की मंगल पर रिसर्च के कुछ हैरतअंगेज तथ्यों की जानकारी दे रहा है)

1 of 5
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें