loading...

wrinkles

loading...
उम्र बढ़ने के साथ बॉडी और स्किन पर एजिंग इफेक्ट्स दिखने लगते हैं। इनमें झुर्रियां भी शामिल हैं। लेकिन कई बार कम उम्र में ही फेस पर फाइन लाइन्स या झुर्रियां दिखाई पड़ने लगती हैं। आमतौर पर पॉल्यूशन और ज्यादा सन एक्सपोजर को इसका कारण माना जाता है लेकिन हम बता रहे हैं ऐसे 10 और कारण जो कम उम्र में झुर्रियां पड़ने के लिए जिम्मेदार हैं।

त्वचा का विभाजन – त्वचा विशेषज्ञ के मुताबिक चेहरे की त्वचा की उम्र को 3 भागों में विभक्त किया जा सकता है । पहला है मीयो एजिंग । आजकल ज्यादातर नवयुवतियां मार्केटिंग, ब्यूटी सैलून, एअरहोस्टेस जैसी ग्राहकों से सीधे ताल्लुक रखनेवाली नौकरियों में हैं, जिसमें वे दिन में सैकड़ों ग्राहकों से मिलती हैं । कई बार मुस्कराना या 100-150 बार हेलो कर अभिवादन करती हैं, जिससे उनकी एक्सप्रेशन लाइन यानी आंखों और मुंह के आसपास की कोशिकाएं प्रभावित होती हैं ।

त्वचा की दूसरी अवस्था है प्रोमो एजिंग, यानी 35-40 वर्ष में महिला की त्वचा के ऊतक कमजोर होने लगते हैं, जिससे त्वचा ढीली हो जाती है ।

तीसरी तरह की एजिंग होती है हारमोनल एजिंग । यह शरीर के अंदरूनी हारमोन के बदलाव के कारण होता है । इसे पोस्ट मेनोपोजल एजिंग भी कहते हैं । इसके अंतर्गत त्वचा की पहली परत काफी पतली हो जाती है । चेहरे पर झांइयां होने लगती हैं । इससे त्वचा का रूखापन बढ़ने लगता है । चेहरे की रूपरेखा बदलने लगती है । नाक व गालों की हड्डी आदि में थोड़ा परिवर्तन होने लगता है । 

1 of 5
CLICK ON NEXT BUTTON FOR NEXT SLIDE

loading...
शेयर करें